साथी :- जो कि मेरे पापा हैं।

ऐ साथी क्यों डरते हो., यह दुनिया बनी डराने को😇

पंख फैलाए हम ,तो पंखों को कटवाने को…🤐

ऐ साथी क्यों डरते हो , यह दुनिया बनी डराने को….🤠

जितना डरोगे इनसे , ये उतना ही डराएगी…🤕IMG 20191229 100622

तुम्हारी उमंगो और सपनों को ,दुनिया तोड़ जाएगी..🤐

बढ़ाओ कदम विश्वास का ,तो नई पहल हो जाएगी….🤝

दुनिया डरेगी तुमसे, इक सीख नयी मिल जाएगी.👏…

जीत लो या सीख लो , न हारो कभी किसी से तुम…💪

यह दुनिया भी एक दिन , साथ तुम्हारे हो जाएगी…🥳

क्यों डरते हो तुम दुनिया से , यह तो अपनी बस्ती है….🥳

फल जो निकले इक खराब ,तो सबको खराब न जानो तुम…😷

नज़रीया बदल के देखो तुम , नजरें ही बदल जाएंगी…🥴

हिम्मत करो कदम बढ़ाओ , दुनिया खुद डर जाएगी…🤠

जितना डरोगे इनसे , यह उतना ही डराएगी.…..😇

ऐ साथी क्यों डरते हो, यह दुनिया बनी डराने को….😎

3 thoughts on “साथी :- जो कि मेरे पापा हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: