आखरी मुलाकात को तरस गए…।

जिंदगी में कुछ हादसात ऐसे हुए…,

के आंसू-आंसू में बरस गए हम…।

जिनके बिन ना रह पाते एक पल भी …,

एक आखरी मुलाकात को तरस गए हम…।IMG 20200719 112257

चाह कर भी ना बोल सकते हैं.., ना लिख सकते हैं…, और ना सुना सकते अपने जज्बातों को…,

बस कुछ ऐसे ही बिन परो के आजाद हो गए हम…।

दिल में थी हजारों अरमां….,

और उन्हीं में दफन हो गए हम….।

ग़र जो तुम होते सामने तो दिल के हर हालात कहती…,

गले लगाकर…, खूब रोकर…, दिल के हर जज्बात कहती..।IMG 20200719 112242

कहती तुमको दिल के हाथों कितना हम मजबूर हुए…,

ना बिछड़ने का वादा था हमारा, और एक पल में ही दूर है..।

शिकवा भी करे तो किससे क्या..?

बेवफाई तो हमने की है…..।

मजबूरी देखो साथी हमारी….,

नजरें तक ना मिला सकते हैं…।

आजादी देखो हमारी फिज़ाओं…,

आसमां में भी ना उड़ सकते हैं…..।IMG 20200719 112140

काट के देखो पंखा हमारे…,

आजाद हमको यूं किया है….।

कह दिया जाओ ले लो आसमां…,

पर उड़ने को ना पंख दिया है…..।

दिल की ख्वाहिशें मेरी…,

दिल ही दिल में रह गई…..।

हर एक पल की हकीकत मेरी…,

बस ख्वाब बनकर रह गई…!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: